महाकालेश्वर मंदिर में दक्षिणमुखी ज्योतिर्लिंग के दर्शन

nspnews 04-03-2019 Devotional

मध्यप्रदेश की धार्मिक नगरी उज्जैन के महाकालेश्वर मंदिर में भक्तों को दक्षिणमुखी ज्योतिर्लिंग के दर्शन होते हैं। यहां भगवान महाकाल के दर्शनार्थ वर्षभर भक्तों की भीड़ बनी रहती है। हर सुबह महाकाल की भस्म आरती करके उनका श्रृंगार होता है और केवल उज्जैन में यह आरती देखने का सुनहरा अवसर प्राप्त होता है।
उज्जैन के महाकालेश्वर मंदिर में स्थापति शिवलिंग भगवान शिव के 12 ज्योतिर्लिंगों में से हैं। महाकालेश्वर मंदिर मुख्य रूप से तीन हिस्सों में विभाजित है। इसके ऊपरी हिस्से में नाग चंद्रेश्वर मंदिर है, नीचे ओंकारेश्वर मंदिर और सबसे नीचे जाकर आपको महाकाल मुख्य ज्योतिर्लिंग के रूप में विराजित नजर आते हैं। जहां आपको भगवान शिव के साथ ही गणेशजी, कार्तिकेय और माता पार्वती की मूर्तियों के भी दर्शन होते हैं। इसके साथ ही यहां एक कुंड भी है जिसमें स्नान करने से सभी पाप धुल जाते हैं।
भगवान महाकाल की भस्म आरती के दुर्लभ पलों का साक्षी बनने का ऐसा सुनहरा अवसर और कहीं नहीं प्राप्त होता है। ऐसा माना जाता है कि जो इस आरती में शामिल हो जाए उसके सभी कष्ट दूर होते हैं। सावन के महिने में उज्जैन में निकलने वाली शाही सवारी देश भर में प्रसिद्ध है और इसमें शामिल होने देश-विदेश से श्रद्धालु उज्जैन पहुंचते है।

 

प्रादेशिक